• 05 June, 2019

बेरोजगारी दर में बड़ी गिरावट देखी जा रही हैं: एक सर्वेक्षण

भारत/यूपी की बेरोजगारी दर में एक बड़ी गिरावट देखी जा रही है: एक सर्वेक्षण

  • पूर्व की रोजगार क्षमता में बढ़ोतरी

नियोजित और बेरोजगारी का अन्तर तेजी से बढ़ रहा है, जो हम हर वर्ष देख रहे है। इसके अलावा, युवा लोगों के लिए नौकरियों के अवसरों में तेजी से विस्तार हो रहा हैं। लेकिन एक तिहाई युवा इन नौकरियां को स्थायी रूप में नहीं देखते है। कंपनियां युवाओं में कौशल की तलाश कर रहीं है, लेकिन युवाओं में कौशल की कमी के करण वे इन अवसरों को प्राप्त करने से चुक जाते है। जिसके कारण उन्हें स्थायी नौकरियां प्राप्त नहीं हो पाती है।

युवा उद्यमिता को प्रोत्साहित करके हम युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों में सुधार कर सकते हैं, जबकि स्व-रोजगार को बढ़ावा न देने से युवाओं के लिए रोजगार के अवसरों का प्रबंध करना मुश्किल हो सकता है। मुख्य व्यापार की योजनाए महान विचारोंए सेवाओं और समर्थन वाले लोग हमें वर्तमान आर्थिक स्थिति में आगे बढ़ने के लिए मदद कर सकते है। उत्पादक नियोजित श्रम का अनुपात जितना अधिक होगा उतना ही एक समाज के कल्याण के लिए अच्छा होगा और इससे गरीबी और आलोचनीयता से भी बचेगे।

रोजगार से एक स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण हो सकता है नहीं तो नौकरियों के विकास के बीना हमारे देश का विकास नकारात्मक ही रहेगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की ग्रामीण बेरोजगारी दर में सीमीत गिरावट (3.1) हुई हैए जबकि शहरी रोजगार (4.2) स्थिर है। जबकि उत्तर प्रदेश में अगस्त 2016 में 9.5 से बढ़कर जून 2017 में 2.7 की तेज गिरावट दर्ज की गई हैं, इसके बाद झारखंड (9.5 फीसदी से 4.4 फीसदी), ओडिशा (10.2 फीसदी से 2.9 फीसदी) और बिहार (13 फीसदी से 2.0 फीसदी) हुई है। Youth4work के सर्वेक्षण के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में नौकरियों की उपलब्धता सबसे अधिक है, जो 0.18% है, उसके बाद ओडिशा (0.13%), बिहार (0.07%) और झारखंड में न्यूनतम रोजगार की दर 0.02% है।

Youth4work के सीईओ रचित जैन का कहते हैंए कि “हम जानते हैं, कि भारत के हर स्थान में कौशल है, लेकिन इसके प्रदर्शन के लिए कोई भी व्यवस्थान नहीं है। IFFCOYUVA- एक संयुक्त मंच हैं जहां Youth4work और IFFCO एक साथ मिल कर युवाओं के स्तर को दुनिया भर में बेहतर करने के लिए रोजगार क्षमता प्रदान कर रहा है तथा सभी स्थानीय और दुनिया भर की कंपनियां इस ग्रामीण प्रतिभा पूल की मदद से अपने करियर के अवसरों का विस्तार कर सकती हैं”

बहुत-सी कंपनियों को अपने अस्तित्व को बनाए रखने के लिए संघर्ष करना पड़ता है और कई लोग केवल छोटे और मध्यम आकार के उद्योगों के लिए फ्रीजिंग ईंधन ड्यूटी (freezing fuel duty) और समर्थन जैसे उपायों के साथ जुड़ने में सफल रहे हैं। ग्रामीण भारत निजी उद्यमों के लिए एक बड़े और आकर्षक निवेश का अवसर प्रदान करता है। लोगों को अपने कौशल को समझने की जरूरत है जो उन्हें एक लंबे समय तक आगे बढ़ने में मदद करेगा।

हालांकि ग्रामीण रोजगार में कमी उच्च यातायात और आवास की लागत का भुगतान करने के कारण ग्रामीण लोगों के लिए शहरी इलाकों में रहना मुश्किल हो जाता है और इसी वजह से हम सरकार को इस समूह का समर्थन करने के लिए आग्रह करते हैं ताकि ग्रामीण लोग शहर में कम खर्च पर निवास स्थान प्राप्त कर सकें।

Youth4work के बारे में:

Youth4work का मुख्यालय दिल्ली में है। यह एक टैलेण्ट डेवलपमेन्ट माध्यम है, जिसका लक्ष्य हर एक युवा को उनकी प्रतिभा का स्व मूल्यांकन करने, आकलन करनेए व सुधार करने में मदद करना है। Youth4work के यूजर आई टी इन्जिनियरिंग सेल्स व मार्केटिंगए फायनान्स, रिटेल एच आर डीजाइन व क्रिएटिविटी स्किल डेवलपमेन्ट पीएमकेवीवाई इत्यादि वर्ग के है। इंटेलीजेन्ट व ग्लोबल एल्गोरिदम की मदद से यूजर को खुद को समझने व सुधार करने में मदद मिलती है, जबकि आनलाइन कोर्स व प्रतियोगी प्रैक्टिस मैटेरियल की मदद से युवा नया स्किल सीखेंगे व रैकिंग में सुधार कर नौकरी के अवसर बढ़ाएंगे।Youth4work का लक्ष्य बड़े टैलेंट मार्केटप्लेस में जगह बनाना है। इसके अन्तर्गत 1500 से ज्यादा जगहों से 1.6 लाख यूजर जुड़ चुके है। 9000 से ज्यादा शिक्षण संस्थान जुड़े हैं 15000 से ज्यादा नियोक्ता 60000 से ज्यादा नौकरी के लिये विज्ञापन दे चुके हैं। 230 से ज्यादा प्रतियोगी परीक्षा के प्रैक्टिस सेट उपलब्ध है। 1500 से ज्यादा ऑलइन सर्टीफिकेशन कोर्स उपलब्ध है। इस प्रकार Youth4work टैलेण्ट इकोसिस्टम पर गहरा प्रभाव छोड़ रहा है।